संगीत


Warning: file_put_contents(): Only 0 of 279 bytes written, possibly out of free disk space in /home/indorepratibhast/public_html/plugins/content/sigplus/services.php on line 870
 

संगीत

संगीत वह सुव्यवस्थित ध्वनि है जो रस की सृष्टि करती है। प्रतिभास्थली में गायन, वादन एवं नृत्य का समावेश कर छात्राओं को इन कलाओं में निपुण बनाना ही संगीत सिखाने का हमारा उद्देश्य है ताकि उनके मन और मस्तिष्क पूर्णतः शांत, स्थिर और स्वस्थ हो सकें। एवं छात्राएँ भारतीय सुर ताल को पुनर्जीवित कर समस्त विश्व में इसका अलखनाद कर सकें।